Flipkart Deal of the Day

Appointment of new director creates controversy

The change of guard at Rajendra Institute of Medical Sciences (RIMS) is snowballing into controversy and is affecting the ruling coalition. Health minister Rajendra Singh's decision to remove former RIMS director Tulsi Mahto and appoint Dr SK Choudhary, a non-teaching cadre, as the new director has not gone down well with many in the coalition circle.

Questions have already been raised on the issue of appointing a non-teaching medical cadre as the director of the state's premium medical institute. The medical fraternity is considering the move as a violation of the RIMS norms, according to which only a doctor teaching in the college can hold the post. What has further enraged the coalition partners JMM and other political parties is the fact that additional responsibility of Mahatma Gandhi Medical College, Jamshedpur, has also been put on Dr Choudhary's shoulders, who is also the medical superintendent of RIMS.

Vinod Pandey, a Jharkhand Mukti Morcha (JMM) central committee member and party spokesman, said, "Abrupt removal of Dr Tulsi Mahto and putting one man in charges of three important responsibilities is raising questions over the wisdom of the health minister and is inviting disrepute to the government. The chief minister would be apprised of it," said Pandey.

Hot Selling Mobile - Moto G  

EXPLORE  BUY: 8GB or 16GB

The Jharkhand Vikas Morcha (JVM) was more scathing in its attack on the appointment. Pradeep Yadav, principal general secretary of the party and leader of the legislator party in the assembly, referring to health minister Singh's son and youth Congress leader Anup Singh, said, "The father is the minister but the son is de facto ruling the roost in the department, be it transfer, postings or grant of departmental tenders."

Reports of interferences of Anup in departmental affairs are abuzz in the local media. Yadav has demanded strict action by the chief minister against the move. source-hindustantimes.com

Alive woman sent for post-mortem in RIMS

An unidentified woman was shifted to the emergency ward of Rajendra Institute of Medical Sciences (RIMS) after doctors found her in the post mortem section of the hospital.

The woman was mistakenly sent to the postmortem wing of the hospital late on Friday but doctors there found that she was breathing.

She was admitted under Dr Umesh Prasad at the emergency ward but but later succumbed to age-related diseases on Saturday morning.

Director RIMS SK Choudhary said that she was one among the unidentified patients belonging to poor family who are left on the hospital campus by their attendants.

"We generally offer treatment to such patients and handover details to local police to verify the whereabouts but in this case she was probably lying unconscious and was taken for treatment," he said. Choudhary however denied the woman being taken for post mortem before being admitted in the emergency. "We have also asked the deputy superintendent to investigate the matter and find out if she was lying unattended for a long time," he said.
TOP Offers        Mobile Offer       Electronics Offers           Fashion Offers    Beauty and Books Offer
Sources at RIMS however said that the woman was lying on the ramp that is used by trolley man to carry patients on trolley to upper floors. Being old and sick she was unable to move in any direction and probably fell unconscious because of sickness and hunger. Security men at the hospital on being informed by some trolley man arranged for her body to be taken to the morgue in post mortem unit where the attendant Raju Ram noticed that she was still breathing.

"I suspected trace of life in her and asked the trolley man to take her to emergency," said Ram. Had she not been noticed to be alive she would have been kept in the refrigeration unit of the morgue till the time someone turned up to claim the body. source-timesofindia.indiatimes.com

फैसिलिटी और सिक्योरिटी की कमी झेल रहीं RIMS नर्सिग स्टूडेंट्स

-रिम्स की बीएससी नर्सिग स्टूडेंट्स 20 दिनों से झेल रही हैं पानी की किल्लत

-गंदा पानी पीने को हैं मजबूर, लाइन लगाकर भरना पड़ता है पानी

-छोटी दीवार होने का फायदा उठाकर कैंपस में घुसते हैं बाहरी लोग

 

बीस दिनों से पानी नहीं आया है. पीने के लिए हमें गंदे पानी का ही सहारा लेना पड़ रहा है. कम्प्लेन करने पर भी कोई सुनवाई नहीं होती है. यही नहीं, इस हॉस्टल में बाहर के लोग आ जाते हैं. हमें बहुत डर लगता है. यह कहना है रिम्स में बीएससी नर्सिग की फ‌र्स्ट ईयर की स्टूडेंट्स का. सभी स्टूडेंट्स बुधवार को रिम्स के डायरेक्टर से इसकी कम्प्लेन करने गई थीं और आश्वासन लेकर लौटीं.

 रिम्स में बीएससी नर्सिग की फ‌र्स्ट ईयर की  स्टूडेंट्स के लिए सिर्फ एक नल है, जिसमें पानी आता है. इसके भरोसे ये पिछले 20 दिनों से हैं. बाकी कामों के अलावा पीने के लिए भी ये स्टूडेंट्स इसी नल के पानी पर निर्भर हैं. अगर टाइम से पानी नहीं लिया, तो वह भी नहीं मिलता है. जबकि, पहले ऐसा नहीं होता था. यहां हॉस्टल की छत पर टंकियां लगी हुई थीं, जिसमें पानी स्टोर होता था और पीने के लिए वाटर प्यूरीफायर भी लगाया गया था. लेकिन, अब टंकी पूरी तरह से टूट चुकी है और प्यूरीफायर गायब हो गया है. इसके बाद से यहां स्टूडेंट्स पानी की किल्लत झेल रही हैं.

Mobile minimum 25% off

कैंपस में घुस जाते हैं बाहरी लोग

नर्सिग फ‌र्स्ट ईयर की स्टूडेंट्स दिनभर तो क्लास और प्रैक्टिस में लगी रहती हैं, लेकिन रात में इन्हें अपने हॉस्टल में आने में डर लगता है. इसके कैंपस के पीछे की बाउंड्री वॉल इतनी छोटी है कि कोई भी इसे आसानी से पार कर सकता है. इन स्टूडेंट्स का कहना है कि कई बार तो बाहरी लड़के बाउंड्री पार करके कैंपस अंदर आ जाते हैं, जिसके कारण इन स्टूडेंट्स को हमेशा डर बना रहता है कि कहीं कोई अंदर न घुस जाए. पूरे कैंपस में ब्8 स्टूडेंट्स रहती हैं और इनकी सिक्योरिटी के लिए सिर्फ एक गार्ड है. यही नहीं, कैंपस के बाहर वाले रास्ते पर बैठकर लड़के शराब भी पीते हैं और बोतल यहीं फेंक देते हैं.

प्रिंसिपल को नहीं है कोई मतलब

स्टूडेंट्स का कहना है कि नर्सिग कॉलेज की प्रिंसिपल ममता टोप्पो को न तो कॉलेज की किसी प्रॉब्लम से मतलब है और न ही हॉस्टल में रह रहीं स्टूडेंट्स की प्रॉब्लम से. सभी स्टूडेंट्स ने प्रिंसिपल से कई बार पानी और सिक्योरिटी के बारे में कहा, तो उनका जवाब था कि बात करते हैं, लेकिन आज तक बात नहीं हुई. सिर्फ आश्वासन मिलता रहा और कॉलेज ऐसी ही परेशानी से चलता रहा है.

Online Discount Sale

स्टाइपेंड भी नहीं मिला है students को

नर्सिग की फ‌र्स्ट ईयर की स्टूडेंट्स ने अक्टूबर में एडमिशन लिया था. अब छह महीने से ज्यादा समय हो गया, लेकिन अभी तक इनमें से किसी भी स्टूडेंट को स्टाइपेंड नहीं मिला है. इसके लिए जब इन्होंने प्रिंसिपल से बात की, तो उनका कहना था कि जब जॉब में आओगी, तब स्टाइपेंड मिलेगा.

आनेवाली है आईएनसी की टीम

रिम्स के नर्सिग कॉलेज का इंस्पेक्शन करने के लिए इंडियन नर्सिग काउंसिल (आईएनसी) की टीम दो से तीन दिनों के अंदर आनेवाली है. रिम्स में चल रहे इस नर्सिग कॉलेज को मान्यता मिलना बाकी है. इसके लिए ही आईएनसी की टीम यहां इंस्पेक्शन करने आनेवाली है. लेकिन, फिलहाल हालत ऐसी है कि अगर इसे टीम देख ले, तो कभी एफिलिएशन ही नही मिलेगा.

'पानी की समस्या तो नर्सिग हॉस्टल की दूर कर दी जाएगी और पानी मिलने लगेगा. लेकिन, जो बात बाउंड्री वॉल की है, तो यह पहले क्वार्टर बनाया गया था और बाद में इसे हॉस्टल बना दिया गया. हमने सिक्योरिटी और बढ़ा दी है. बाउंड्री वॉल के लिए प्रपोजल बनाकर आगे बढ़ाया जाएगा.' --डॉ एसके चौधरी,एक्टिंग डायरेक्टर, रिम्स
 Mobile Offer       Electronics Offers           Fashion Offers   

Government clarifies age controversy in appointment of RIMS director

Jharkhand government on Monday clarified that the replaced director of the Rajendra Institute of Medical Sciences, Tulsi Mahto, did not inform the department after completing 60 years of age that bars holding the post.

"According to rules, the eligible age for appointment of director is below 60 years, and when Dr Mahto was below 60 he was appointed to the post. But he did not inform the health department after completing the age limit," an official release quoting Jharkhand Principal secretary (Health) BK Tripathy said in Ranchi.

"The department handed over the charge to another person (Dr SK Choudhary) after learning about it," he added. Stating that a petition relating the age matter is pending before the Jharkhand High Court, Tripathy said there should not be any apprehension about appointment as per rules.
 
Hot Selling Mobile - Moto G
EXPLORE BUY: 8GB or 16GB
Offer on Other Sony Xperia Mobile: View All Offers 
Offer on Nokia Mobiles:  View All Offers

Tripathy said the department was committed to working in an organised way with transparency and adhering to rules drawn for the RIMS. When contacted, Dr Mahto declined to speak. source-ibnlive.in.com -Jun 02, 2014

 
 
 
 
 
 
 
 

 

RIMS director sacked

A day after junior doctors clashed with relatives of patients and disrupted medical services at the Rajendra Institute of Medical Sciences (Rims), the state health and family welfare department removed Rims director Dr Tulsi Mahto from his post on Wednesday. Rims superintendent Dr S K Choudhary was appointed as the interim director.

State health and welfare department joint secretary B K Mishra said Mahto was removed after a petition was filed against him in the high court challenging his stay at the post beyond the upper-age limit of 60 years. "The upper-age limit for a director is 60 years and Mahto, who was serving an extension, has already crossed 60. A petition was filed with the high court by an anonymous person a few months ago and is due for hearing," Mishra said.

Mahto had completed his tenure as Rims director in December 2013 and was serving a two-year extension that was, however, cut short on Wednesday. Though removed, he will continue to serve as the head of the department of forensic medicine.
 
 Mobile Offer       Electronics Offers           Fashion Offers    Beauty and Books Offer

 While Mishra cited the petition as the reason for Mahto's removal, sources at the department cited his poor performance as the reason for his ouster. Rims has been in the news for all the wrong reasons, right from frail infrastructure, lack of basic medical amenities to junior doctors beating up relatives of patients twice in the past 48 hours. "The health department was monitoring the day-to-day functioning of the medical college and hospital," said an official, requesting anonymity.

Mahto declined to comment on the matter, but said he was happy with his performance. "The super specialty block started functioning under my tenure. Seats for the PG courses were increased and a host of other initiatives were taken to improve the academic and medical infrastructure during my tenure. Most importantly, the faith of patients on Rims was restored during this time," Mahto said.

On the contrary, the new interim director said improving the quality of medical assistance will be his top priority. "We will work to improve the quality of medical assistance and set the work culture in order," Choudhary added.

Meanwhile, the junior doctors, who had gone on a strike on Tuesday demanding the arrest of a patient's kin who had allegedly beaten up a junior doctor at the gynaecology department on Monday night, went to work following her arrest on Wednesday.

However, students demanded tighter security from the director to avoid being harassed by the patient's relatives. The students demanded additional deployment of security guards outside labor rooms and operation theatres and sought the prohibition of male relatives to enter the labour wards. "Doctors are being harassed on a daily basis and the authorities must guarantee our safety," said Rajeev Ranjan, a junior doctor at Rims. source-timesofindia.indiatimes.com - May 29, 2014

3 students expelled for cheating

The Rajendra Institute of Medical Sciences (RIMS) on Sunday announced the cancellation of the registration of three students, who were found guilty of impersonation during the entrance examination to the medical college

RIMS director Tulsi Mahto said, "The registration numbers of the accused students were scrapped after they were found guilty of impersonation in the entrance examinations to the medical colleges in 2006 and 2007, earlier this month. An FIR has been lodged with the Bariatu police station."

The degrees of Mithilesh Choudhary, Satyendra Kumar Neeraj and Rajiv Saxena were cancelled earlier this month after a four-member investigation committee comprisng Dr Ishwar Dayal Choudhary (pathology), Dr Anil Kumar Sinha (pathology) Dr Manju Gari (pharmocology) and Dr Vivek Kashyap (PSM) found them guilty of impersonation. The committee furnished its report to the RIMS authorities in September 2011 upon which action was taken earlier this week.
Offer on Other Sony Xperia Mobile: View All Offers

Sony Xperia T2 Ultra(Black)
 - Rs. 24990 2% OFF   Rs. 24362        EMI from Rs. 1182

 The decision was taken nearly a month after chief minister Hemant Soren ordered the state vigilance department to speed up the investigation of impersonation cases during admission procedures in medical colleges in the state.

Soren had expressed grave concern over the progress and asked the investigating body to nab the students and college authorities involved in forgery. The reports are yet to be submitted to the CM.

Cases of impersonation surfaced in 2006 when students seeking admission to the medical colleges were found guilty and the RIMS remained the center of controversy.

Choudhary is a resident of Giridih district, Neeraj hails from Nodiha in Palamu. Choudhary belongs to Sheikhpura in Bihar.

While Choudhary and Neeraj were enrolled at RIMS in 2006, Saxena signed up for the medical course in 2007.

According to RIMS director, the hospital authorities took notice of the case in the first semester when the photographs of the students in admission forms and the admit card did not match.

"The accused students were not allowed to attend their classes all this time," RIMS public relation officer Subhash Bhagat said.

Meanwhile, the linear accelerator in the oncology department is all set to function after the hospital authorities received necessary clearance from the Atomic Energy Regulatory Body (AERB) last month.

The new device will enable radio-therapy on the hospital premises and the authorities are to recruit a professor, assistant and technician in the coming days. source-timesofindia.indiatimes.com -May 26, 2014

CS visits RIMS

The chief secretary's surprise visits to several hospitals and primary health centres (PHCs) in different parts of Ranchi late on Wednesday night has forced government medical officials to sit up and take note of things.

Tulsi Mahto of Rajendra Institute of Medical Sciences (Rims) stayed back till late on Wednesday for "to ensure everything was alright", officials at the hospital said. However, Mahto said it was only a routine checking. At Ranchi sadar hospital, in-charge Gopal Srivastava denied that there was panic among the staff. But sources in the hospital said all staff have been asked to be reach office on time on Thursday after the media reported Chakraborty's surprise checks.

Officials at PHCs are also alert. Sanjay Kumar, a medical officer at PHC in Ormajhi block, said all the staff have been asked to arrive on time. "Doctors have been asked not to skip duty. You never know when the CS comes calling," Kumar said.

When the acting chief secretary Sajal Chakrabarty swooped in on hospitals in the dark of Wednesday, alarm bells went off among the rank and file of government medical centers in and around Ranchi. The medical officers of the public health centers to the director of the Rajendra Institute of Medical Sciences (RIMS), the fear of the CS arriving announced kept them on their heels as the attendants and doctors, who are otherwise hard to find, were instructed to be at the hospital premises and carry out their duties.
Hot Selling Mobile - Moto X
EXPLORE | BUY: 16GB
Offer on Nokia Mobiles:  View All Offers

 Chakrabarty had announced a surprise inspection of medical centers to examine the attendance of doctors and improve the quality of medical facilities on Tuesday. He began his inspection late on Wednesday night and visited PHC s and CHCs in Ormajhi, Kanke, Patratu, Namkom and the Sadar hospital in Ramgarh. Accompanied by the director of state health directorate Dr. Sumant Mishra, the CS inspected the attendance of doctors in the night duty and examined the infrastructure available. One doctor at the Kanke CHC was suspended after she was found to have skipped her duty.

Mishra said that the examinations like these are aimed at monitoring and strengthening the medical facility. "We are trying to improve the quality of treatment in the hospitals and such visits are required to monitor the quality," he said. source-timesofindia.indiatimes.com -May 9, 2014

रिम्स के आंगन से हटे तुलसी

29-May-2014 रिम्स में मंगलवार दोपहर दो बजे से चल रही जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन की हड़ताल तो बुधवार की सुबह दस बजे खत्म हो गई, पर इस हड़ताल ने रिम्स डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो की कुर्सी छीन ली. झारखंड गवर्नमेंट के ज्वॉइंट सेक्रेटरी विनोद कुमार मिश्र के सिग्नेचर से आए फैक्स के बाद रिम्स डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो ने कुर्सी छोड़ दी. वहीं, ज्वॉइंट सेक्रेटरी के ही लेटर से आए आदेश के बाद रिम्स सुपरिंटेंडेंट डॉ एसके चौधरी ने रिम्स डायरेक्टर का एडिशनल चार्ज संभाल लिया. रिम्स के नए एक्टिंग डायरेक्टर डॉ एसके चौधरी से मिले सुरक्षा के आश्वासन के बाद जूनियर डॉक्टर्स ने अपनी हड़ताल खत्म कर दी और काम पर लौट आए. जूनियर डॉक्टर्स के काम पर लौटने के बाद रिम्स की चिकित्सा व्यवस्था फिर से पटरी पर अा गई है.

मारपीट के कारण हटाए गए तुलसी

रिम्स के डेंटल कॉलेज के इंस्पेक्शन में डीसीआई की टीम के साथ लगे डॉ तुलसी महतो को जैसे ही फैक्स की इनफॉर्मेशन मिली, वह डायरेक्टर ऑफिस आए और बिना चार्ज दिए डायरेक्टर ऑफिस से निकल गए. गवर्नमेंट के ज्वॉइंट सेक्रेटरी का रिम्स डायरेक्टर तुलसी महतो को हटाए जाने का फैक्स बुधवार की सुबह क्0.क्भ् बजे बजे आया था. डॉ तुलसी महतो को रिम्स में अक्सर होनेवाली मारपीट की वजह से हटाया गया. हर मारपीट के बाद डॉक्टर्स की हड़ताल से रिम्स में मरीज और परिजनों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. डॉ महतो को रिम्स की सुरक्षा में लापरवाही बरतने और मारपीट की घटनाएं रोकने में असफल रहने की वजह से अपना पोस्ट गंवाना पड़ गया.

सचिवालय से नहीं बन रही थी डॉ महतो की

डॉ तुलसी महतो के रिम्स डायरेक्टर पोस्ट गंवाने की तात्कालिक वजह भले ही रिम्स में जेडीए की हड़ताल रही हो, पर बड़ी वजह हेल्थ डिपार्टमेंट और सचिवालय के अधिकारियों की किरकिरी होना भी है. सोर्सेज बताते हैं कि सचिवालय के अधिकारियों से रिम्स के एक्स डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो की नहीं बन रही थी. वह हेल्थ मिनिस्टर के तो चहेते थे, पर दूसरे फ्रंट पर कमजोर पड़ गए थे. खुद डॉ तुलसी महतो ने कहा कि उनके खिलाफ साजिश की गई थी और साजिश के तहत हड़ताल कराई गई थी. हालांकि, उन्होंने साजिशकर्ता के बारे में खुलासा नहीं किया.

यह मेरे साथ अच्छा नहीं हुआ

गवर्नमेंट के आदेश से रिम्स डायरेक्टर के पद से हटाए जाने के बाद भी डॉ तुलसी महतो ने डॉ एसके चौधरी को पदभार नहीं दिया. वह दिनभर डेंटल काउंसिल ऑफ इंडिया (डीसीआई) की दो सदस्यीय टीम के साथ इंस्पेक्शन में लगे रहे. उन्होंने बताया कि उनकी पहली प्राथमिकता रिम्स है और डेंटल कॉलेज जल्द से जल्द खुलवाना हैं. उन्होंने कहा कि उनके साथ जो हुआ है, वह उचित नहीं है.

ख्ख् दिसंबर को पूरा हो गया था कार्यकाल

बतौर रिम्स डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो ने अपने तीन साल का कार्यकाल ख्ख् दिसंबर ख्0क्फ् को पूरा कर लिया था. इसके बाद उन्हें एक्सटेंशन दिया गया था, जो अगले आदेश तक के लिए था. ख्8 मई ख्0क्ब् को यह कार्यकाल खत्म हो गया. रिम्स के प्रावधान के मुताबिक, रिम्स डायरेक्टर को अगले दो साल तक का सर्विस एक्सटेंशन मिल सकता था, पर ऐसा तभी हो सकता है, जब उनकी उम्र म्0 साल से कम हो.

चार्ज ले लिया है डॉ चौधरी ने

एमएलए उमाशंकर अकेला की नतिनी की रिम्स की डॉ प्रीतिबाला सहाय की यूनिट में इलाज की पूरी व्यवस्था करने में जुटे रिम्स के एक्टिंग डायरेक्टर डॉ एसके चौधरी क्ख्.0भ् बजे रिम्स डायरेक्टर ऑफिस पहुंचे और उन्होंने रिम्स के एक्टिंग डायरेक्टर का एडिशनल चार्ज ले लिया. चार्ज लेने के बाद भी वह रिम्स डायरेक्टर की कुर्सी पर नहीं बैठे और सचिवालय चले गए. उन्होंने पत्रकारों से बातचीत में कहा- एडिशनल चार्ज के लिए गवर्नमेंट की ओर से आदेश आया था. चार्ज ले लिया है. मेरी पहली प्राथमिकता मरीज का हित है. रिम्स में होनेवाली मारपीट की घटनाएं वर्क कल्चर में होनेवाली खराबी का नतीजा है और अगर वर्क कल्चर में सुधार लाया गया, तो ऐसी घटनाएं नहीं होंगी.

यह है मामला

डॉ नेहादीन की पिटाई के बाद से मंगलवार दोपहर बाद से रिम्स के जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गए थे. जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन ने डॉ नेहादीन की पिटाई के बाद हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया था. इसके बाद ओपीडी बंद करा दी गया था, पर इमरजेंसी और अन्य सेवाएं चालू थीं. एसोसिएशन का कहना था कि अगर दोषियों की गिरफ्तारी नहीं होती है, तो इमरजेंसी समेत सभी ऑपरेशन ठप कर दिए जाएंगे. इस घटना के बाद से रिम्स में पुलिस फोर्स की तैनाती कर दी गई थी.

दोपहर में डॉक्टर्स ने पीटा था

डॉक्टर्स ने मंगलवार को रिम्स ठप कराने की घोषणा की और दोपहर में लेबर रूम में भर्ती सोमा की जमकर पिटाई कर दी थी. इससे लेबर रूम के बाहर अफरा-तफरी का माहौल गया था. पीडि़त महिलाओं का कहना था कि डॉक्टर्स ने उन्हें खूब पीटा है और पुरुषों को उठाकर ले गए हैं. घटना की जानकारी मिलने पर रिम्स सुपरिंटेंडेंट डॉ एसके चौधरी वहां पहुंचे और मामले का जायजा लिया. इसके बाद पुलिस बुलाई गई, तब जाकर मामला शांत हुआ था.

35% off  on Footwear
Select Men's Footwear - Extra 35% Off 
April Special Offer - Extra 20% Off

All Benetton Products- Extra 20% Off 

Diadora Shoes -Free Slazenger Football

Women's Footwear - Extra 35% Off

Puma BackPacks upto 34% Off   
Select Laptop Bags - Extra 10% off (26)

दोनों पक्ष ने कराई एफआईआर

रिम्स में डॉक्टर के साथ हुई मारपीट के मामले में बरियातू थाना में दोनों ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई. डॉक्टर्स की ओर से बतौर रिम्स डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो और दूसरे पक्ष की ओर से सोमा रानी ने एफआईआर दर्ज कराई थी. इसके बाद बरियातू पुलिस ने आरोपी नीतू को हिरासत में ले लिया.

बंटीं मिठाइयां, िमले गुलदस्ते

डॉ एसके चौधरी द्वारा रिम्स डायरेक्टर का एडिशनल चार्ज संभालने के बाद उनसे मिलने डॉ विवेक कश्यप, डॉ चंद्रमोहन और डॉ रघुनाथ सिंह समेत कई डॉक्टर्स पहुंचे और उन्हें बधाई दी. रिम्स की नर्सो ने भी उन्हें गुलदस्ता देते हुए बधाई दी. सभी को काजू की बर्फी खिलाई गई.

रिम्स में दो महीने में आए डेंगू के दो मरीज

20-May-2014 -मौसम में हो रहे बदलाव के कारण बीमारियां दस्तक दे रही हैं. मच्छरों की संख्या बढ़ने के साथ ही डेंगू के मरीज भी अस्पताल पहुंचने लगे हैं. दो महीने के अंदर डेंगू के दो मरीज रिम्स पहुंच चुके हैं. इनमें से एक अभी एडमिट है, जबकि इस साल तीन लोगों में डेंगू के लक्षण पाए गए थे. हालांकि रिम्स प्रशासन ने दो मरीजों की ही पुष्टि की है. 17 मई को रिम्स के डॉ विद्यापति के यूनिट में गढ़वा के वसीम खान को एडमिट किया गया है, जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. हो सकता है कि आनेवाले दिनों में डेंगू के मरीजों की संख्या और बढ़े, क्योंकि प्राइवेट हॉस्पिटल्स में भी डेंगू के मरीज हो सकते हैं. दूसरी ओर रिम्स प्रशासन का दावा है कि हमलोग किसी भी स्थिति से निबटने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं.

पिछले साल 113 मरीज

रिम्स के माइक्रोबायोलॉजी डिपार्टमेंट के एचओडी डॉ एनपी साहू ने बताया कि पिछले साल रिम्स में 113 डेंगू के मरीज आए थे. सिर्फ सारंडा से एक साथ डेंगू के 20 मरीज आए थे. उन्होंने बताया कि इस साल मार्च में एक पेशेंट आया है और दो दिन पहले एक पेशेंट आया है. उन्होंने बताया कि रिम्स में अगर कोई मरीज ऐसा आता है, जिसका सिम्पटम डेंगू से मिलता है तो उसे 24 घंटे के अंदर ही पता चल जाता है कि डेंगू है या नहीं. डेंगू का टेस्ट रिम्स में होता है और 24 घंटे में ही रिपोर्ट आ जाती है. डॉ साहू ने बताया कि रिम्स में ट्रीटमेंट और जांच के साथ ही मरीजों को दवा भी मुफ्त में दी जाती है.

पुणे से आती है एलाइजर किट

डॉ एनपी साहू ने बताया कि एलाइजर टेस्ट रिम्स में होता है, जिससे पता चलता है कि डेंगू की रिपोर्ट पॉजिटिव है या निगेटिव. उन्होंने बताया कि डेंगू की जांच के लिए एलाइजर किट पुणे के इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी से आती है. तीन दिन तक फीवर रहने के बाद ही डेंगू के टेस्ट के लिए ब्लड क्लेक्ट किया जाता है.
 
Hot Selling Mobile - Moto G
EXPLORE  BUY: 8GB or 16GB
 

मच्छरों को नहीं लेते सीरियसली

रिम्स में इस साल आनेवाले डेंगू के दोनों मरीज स्टेट से बाहर जॉब करते हैं. मार्च में जो पेशेंट आया वो दिल्ली और दो दिन पहले जो पेशेंट आया है वो विशाखापत्तनम में जॉब करता है. घर आने पर दोनों बीमार पड़े और रिम्स आने पर पता चला कि डेंगू है. डॉक्टर्स कहते हैं कि जो लोग मच्छरों को सीरियसली नहीं लेते वे डेंगू से पीडि़त हो रहे हैं.

चार मशीन के भरोसे fogging

रांची में हर साल डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन नगर निगम ने इसके लिए कुछ खास तैयारी अभी तक नहीं की है. रांची के भ्भ् वार्ड में सिर्फ चार फॉगिंग मशीन ही काम कर रही है. इस कारण हर इलाके में फॉगिंग संभव नहीं है. अगर रांची नगर निगम अभी से अलर्ट नहीं हुआ तो बरसात के शुरू होते ही डेंगू मरीजों की संख्या बढ़ सकती है. source-inextlive.jagran.com

रिम्स के सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक में जहरीली पार्थेनियम

RANCHI रिम्स सुपर स्पेशियलिटी डिपार्टमेंट कैंपस में उगी पार्थेनियम की घास जहर उगल रही है. रिम्स कॉटेज के पीछे उगी इस घास को हटाने के लिए रिम्स मैनेजमेंट ने अब तक कोई उपाय नहीं किया है. इस कारण रिम्स में इलाज कराने आए मरीज बीमार बन रहे हैं. रिम्स परिसर में यह घास सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक के अलावा भी दूसरे जगहों पर उग आई है.

जहरीली है पार्थेनियम

पर्यावरणविद डॉ नीतीश प्रियदर्शी ने बताया कि रिम्स सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक ही नहीं जहरीली पार्थेनियम घास जिसे गाजर घास भी कहा जाता है धीरे-धीरे पूरे शहर को घेर रही है. इस घास के फूलों से निकलनेवाले परागकण कई तरह की बीमारी देते हैं. यह पौधा जहां रहेगा, वहां लोगों में एलर्जी बढ़ जाती है. लोगों का छींकना-खांसना और दमा इसके लक्षण है. इसकी वजह से आंखों में पानी की शिकायत आम बात है. यह गाजर घास जहां उगती है, वहां दूसरा कोई पौधा नहीं उगता और यह जमीन को बंजर कर देती है. अगर गाय इस पौधे को खाती है तो उसका दूध कसैला हो जाता है.

कैंपस को साफ कराएंगे

रिम्स के डायरेक्टर डॉ तुलसी महतो ने कहा कि रिम्स सुपर स्पेशियलिटी ब्लॉक और उसके आसपास पार्थेनियम घास उग गई थी, जिसे हमने साफ कराया था. यह फिर से हो गई है. इसे फिर से परिसर से समाप्त किया जाएगा. उखड़वाने के बाद इसे जला दिया जाएगा, जिससे ये फिर न उगे.

कैसे आई पार्थेनियम?

इंडिया में गाजर घास या पार्थेनियम क्9म्0 में अमेरिका से आयातित गेहूं के साथ आई थी. इसे कांग्रेस घास के नाम से भी जाना जाता है. पार्थेनियम के संपर्क में आने से मनुष्यों में डर्मेटाइटिस, एक्जिमा, एलर्जी, बुखार, दमा जैसी बीमारियां हो जाती हैं. अगर पशु इसे अत्याधिक मात्रा में चर लेते हैं तो इससे उनकी मौत भी हो सकती है. source-inextlive.jagran.com

 

Moto E launcing on 13 May 2014 at 00:00 Hrs

Launching day Offer:

  1. 50% Off on Moto E Covers
  2. 50% Off on 8GB Transcend Memory Card
  3. Free eBooks worth Rs.1000/- 

 Key Features of Moto E (Black) - Rs. 6999          

  • Android v4.4 (KitKat) OS
  • Wi-Fi Enabled
  • FM Radio
  • 1.2 GHz MSM8x10 Dual Core Processor
  • Dual Standby SIM (GSM + GSM)
  • 5 MP Primary Camera
  • 4.3-inch Touchscreen

All Rights Reserved
Contact Us